पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर विशाल धरने में दिखी एकजुटता

8

पत्रकारों को सभी सामाजिक संगठनों ने दिया अपना समर्थन

जयपुर। पत्रकारों पर निरंतर हो रहे हमलों व पत्रकारों को आए दिन मिलने वाली धमकियों के विरोध में पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर (पीपीआई) पीरियोडिकल प्रेस ऑफ इंडिया के बैनर तले शनिवार को शहीद स्मारक पर शांतिपूर्ण सांकेतिक धरना दिया गया, जिसमें सैंकड़ों की संख्यां में पत्रकारों के साथ ही सामाजिक संगठनों का भी सहयोग मिला। पीरियोडिकल प्रेस ऑफ इंडिया (पीपीआई) के राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार सन्नी आत्रेय ने बताया कि कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से जारी कोरोना गाइडलाइन की पालना करते हुए पत्रकार हित के लिए शान्तिपूर्ण तरीके से विशाल धरना दिया गया।

इस धरने में सभी पत्रकार साथियों एवं विभिन्न मीडिया संगठनों, एनजीओ, संस्थाओं व क्लबों के प्रतिनिधि शामिल हुए। आत्रेय ने बताया कि इस धरने के माध्यम से राज्य सरकार को पत्रकार हित में कदम उठाने के लिए 11 सूत्रीय मांग पत्र मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव को सौंपा गया है। अगर आगामी एक माह में पत्रकारों की मांगों को पूरा नहीं किया गया तो आन्दोलन को और तेज किया जाएगा।राज्य सरकार के समक्ष रखी गई 11 सूत्रीय मांगों में पत्रकार सुरक्षा कानून राज्य सरकार तुरंत प्रभाव से लागू करना। पिछले दिनों हुए हमले में मृतक पत्रकार अभिषेक सोनी के सभी हमलावरों को गिरफ्तार कर कठोर सजा देने। मृतक पत्रकार अभिषेक के परिजनों को एक करोड़ रुपये एवं एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने।

वरिष्ठ पत्रकार सन्नी आत्रेय को जान से मार देने की धमकी देने वाले मामले की जांच कर आरोपी को गिरफ्तार करने। वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट गिरधारी पालीवाल के साथ हुई मारपीट मामले के आरोपियों के खिलाफ संगीन धाराओं में मामला दर्ज कर उचित कानूनी करवाई करने।  डिजिटल मीडिया के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए इसे सरकारी मान्यता देने। गैर अधिस्वीकृत पत्रकारों के लिए मेडिकल डायरी के नियम में शिथिलता बरतने।गैर अधिस्वीकृत पत्रकारों के लिए भी पेंशन सुविधा शुरू करने। ग्रामीण इलाके में रहने वाले पत्रकारों को जिला मुख्यालय तक आवागमन हेतु निःशुल्क रोडवेज बस सुविधा उपलब्ध करवाने।

पत्रकारों के होनहार बच्चों के लिए राज्य सरकार की ओर से निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध करवाने। पत्रकारों के प्रोत्साहन हेतु राज्य सरकार की तरफ से विशेष पुरस्कार देने की योजना शुरू करने की मांगे शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इस धरने के दौरान मृतक पत्रकार अभिषेक सोनी के पिता महेश सोनी, बहन सिम्पल सोनी व भाई रोहित सोनी सहित पीपीआई की राष्ट्रीय एवं प्रदेश कार्यकारिणी के पदाधिकारी एवं सदस्य मौजूद रहे, जिनमें वरिष्ठ पत्रकार डॉ. सुरेन्द्र शर्मा, राकेश प्रजापति, युवा पत्रकार गोविंद गोपाल सिंह,भानु भारवि, एच.के. झा, संजय त्रिवेदी, लक्ष्मीकांत पारीक, श्याम शर्मा, मुकेश शर्मा जती, विजय पांडेय, आदित्य भट्ट, भंवर चौहान, दिलीप पारवानी, विनोद कुमार, अरुण, कमल शर्मा, पं राजेश शर्मा, पं हरीश शर्मा, हरदेवेंद्र, निर्मल कुमार जैन, रूपेंद्र चौधरी व अनिल मुदगल सहित अखिल भारतीय भ्रष्टाचार निर्मूलन संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष एवं लॉयन्स क्लब जयपुर विद्याधर के अध्यक्ष पवन कुमार अग्रवाल, इंटेलिजेंस मीडिया एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष मतिष पारीक, राजस्थान, आर्ष संस्कृति दिग्दर्शक के विजय शंकर पाण्डे, सर्व समाज विकास संस्थान के प्रदेधाध्यक्ष तोफान मीणा, महिला प्रदेशाध्यक्ष अनिता राजपुरोहित, सक्षम संस्थान की इवादीप सक्सेना, राजस्थान अभिभावक संघ के मनीष विजयवर्गीय, जन मोर्चा संस्थान, मानवाधिकार परिषद, न्याय संघर्ष संगठन, राष्ट्रीय मध्यमवर्गीय अधिकार मंच के प्रतिनिधियों, अनुराग सेवा संस्थान के सचिव श्याम शर्मा सहित विभिन्न पत्रकार संगठनों और सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधिगण शामिल रहे।