आतंकवादियों ने भाजपा नेता पर गोली मारकर की हत्या

6

श्रीनगर। उत्तर कश्मीर के बांदीपुरा में बुधवार रात को आतंकवादियों ने एक भाजपा नेता, उनके पिता और भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। भाजपा नेता का नाम शेख वसीम बारी बताया जा रहा है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुरक्षा में भारी चूक के चलते आतंकवादी भाजपा नेता शेख वसीम बारी और उनके पिता और भाई पर गोलियां चला पाने में कामयाब हुए हैं। जिसके बाद जम्मू-कश्मीर प्राधिकारियों ने नेता की सुरक्षा में कथित लापरवाही के मामले में सात पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया।

साइलेंसर लगी रिवॉल्वर से की गई हत्या

आतंकवादी ने भाजपा नेता बारी पर साइलेंसर लगी रिवॉल्वर से गोलियां दागी। यह घटना मुख्य थाने से महज 10 मीटर की दूरी पर हुई। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि आतंकियों ने भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष वसीम अहमद बारी की दुकान के बाहर रात करीब नौ बजे उन्हें गोली मार दी, जिसमें उनकी मौत हो गई। इस घटना में बारी के अलावा उनके भाई उमर और पिता बशीर अहमद की भी मौत हुई है।

पुलिस ने बताया कि आतंकियों ने साइलेंसर लगी रिवॉल्वर से गोली मारी। जिस जगह इस वारदात को अंजाम दिया गया वो जगह मुख्य थाने से महज 10 मीटर दूर है। उन्होंने बताया कि बारी की सुरक्षा में कथित लापरवाही के मामले में सात पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा नेता की सुरक्षा में लगे गार्डों पर देरी से आने का आरोप लगा है। जिसके बाद उन तमाम गार्डों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई किए जाने की बात सामने आ रही है। बता दें कि इस भाजपा नेता के परिवार की सुरक्षा 8 सुरक्षाकर्मी के जिम्मे थी लेकिन जिस वक्त शेख वसीम बारी पर गोलियां चली उस वक्त कोई मौजूद नहीं था।

जारी है नेताओं की हत्या

भाजपा नेता शेख वसीम बारी की हत्या से पहले जून माह में आतंकवादियों ने एक सरपंच की हत्या की थी। जिसकी वजह से स्थानीय लोगों के बीच में डर बढ़ गया था। बता दें कि अनंतनाग जिले में आतंकियों ने सरपंज अजय पंडिता की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्या की जिम्मेदार लश्कर से जुड़े संगठन द रेजिस्टेंस फ्रंट ने ली थी।
हाल ही में हुई हत्याएं सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा कर रही हैं। जब नेता ही सुरक्षित नहीं हैं तो फिर आम आदमी का क्या होगा। हालांकि सुरक्षाबलों ने पिछले कुछ दिनों में कई दर्जन आतंकियों को ढेर किया है और अभी भी आतंकियों के खात्मे को लेकर अभियान चल रहे हैं।