संसद के विंटर सेशन के चौथे दिन की शुरूआत हंगामेदार हुई, सभापति नायडू ने 12 सांसदों के निलंबन को सही ठहराया

12

संसद के विंटर सेशन के चौथे दिन की शुरुआत भी हंगामेदार हुई। राज्यसभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी नेताओं ने राज्यसभा में हंगामा शुरू कर दिया। ये लोग निलंबन वापस लेने की मांग कर रहे हैं। विपक्ष के शोर-शराबे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। 12 बजे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई।

राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने सांसदों के निलंबन को आज फिर सही ठहराया। उन्होंने कहा कि सदन का कार्यवाही चलने दी जाए, निलंबन कोई पहली बार नहीं हुआ है। नायडू ने साफ कर दिया कि निलंबित सांसदों के माफी मांगे बिना निलंबन रद्द करने पर विचार भी नहीं किया जाएगा।

तृणमूल कांग्रेस ने 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन सहित विभिन्न मुद्दों पर राज्यसभा से वॉकआउट किया। वहीं, कांग्रेस, एनीपी, आरजेडी, टीआरएस और आईयूएमएल ने महंगाई के मुद्दे पर राज्यसभा से वॉकआउट किया।

लोकसभा में कोरोना के मामले पर चर्चा हुई। यह चर्चा नियम 193 के तहत हुई। शिवेसना सांसद विनायक राउत ने लोकसभा में कोरोना पर चर्चा की शुरुआत की। राउत ने पीएम केयर्स के तहत मिले वेंटिलेटर्स की क्विलिटी पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि जो वेंटिलेटर्स दिए गए हैं, उनमें से 60 प्रतिशत बेकार पड़े हैं।

यह भी पढ़ें-किसानों की मौत और मुआवजे को लेकर कृषि मंत्री बोले- कृषि मंत्रालय के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं, मुआवजे का सवाल ही नहीं उठता