भाजपा विधायकों के सवाल खुद विधानसभा अध्यक्ष ने पूछे, सभी सवालों पर सदन में चर्चा

छपाक फिल्म को टैक्स फ्री करवाने पर पूरक सवाल पूछने की नहीं इजाजत, नाराज भाजपा विधायकों ने किया प्रश्नकाल का बहिष्कार

जयपुर । भाजपा विधायकों के हंगामे और बहिष्कार के बावजूद आज विधानसभा में प्रश्नकाल की कार्यवाही समुचित रुप से सम्पन्न करवाई गई। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल किया और मंत्रियों से सभी सवालों के जवाब दिलवाए। इस दौरान आसन से खुद अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने पूरक प्रश्न पूछे वहीं सदन में मौजूद दूसरे विधायकों को भी पूरक प्रश्न पूछने का मौका दिया गया।
 विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान आज भी भाजपा विधायकों ने हंगामा और बहिष्कार किया। छपाक फिल्म से जुड़े सवाल पर आसन द्वारा पूरक प्रश्न पूछने से रोक दिए जाने पर भाजपा विधायकों ने पहले वेल में आकर नारेबाजी की और उसके बाद प्रश्नकाल का बहिष्कार करते हुए सदन से बाहर चले गए। हालांकि इससे प्रश्नकाल की कार्यवाही पर कोई असर नहीं पड़ा और अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल करते हुए प्रश्नकाल की कार्यवाही पूरी करवाई। प्रश्नकाल में भाजपा विधायकों से जुड़े सवालों पर आसन से अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने खुद पूरक सवाल किए साथ ही सदन में मौजूद दूसरे विधायकों को भी पूरक सवाल पूछने का मौका दिया गया। प्रश्नकाल में आम तौर पर प्रश्नकर्ता विधायक के सदन में मौजूद होने पर ही मंत्री सवाल का जवाब देते हैं लेकिन अध्यक्ष ने विधायकों की गैर मौजूदगी के बावजूद मंत्रियों से सवालों के जवाब दिलवाए। खास बात यह भी रही कि आज तारांकित के तौर पर सूचीबद्ध किए गए सभी सवालों का जवाब मंत्रियों द्वारा सदन में दिया गया। हालांकि इनमें से एक-दो सवाल अध्यक्ष ने स्थगित कर दिए।

 प्रश्नकाल में विधायक शंकर सिंह रावत द्वारा छपाक फिल्म को कर मुक्त करने से हुई राजस्व हानि से जुड़ा पहला सवाल पूछा गया था जिसका मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में जवाब दिया। लेकिन बाद में रावत ने पूरक सवाल के तौर पर फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के जेएनयू विवाद से जुड़ा प्रश्न किया जिसकी आसन से अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने अनुमति नहीं दी। इस पर भाजपा विधायकों की ओर से आपत्ति जताई गई। लेकिन अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने तल्खी दिखाते हुए कहा स्पष्ट किया कि राजस्व से जुड़े सवाल का मंत्री द्वारा जवाब दे दिया गया है लेकिन सवाल यदि कल्चर से जुड़ा है तो कल्चर से जुड़े प्रश्न के दौरान इसका जवाब मिलेगा। बार-बार आपत्ति जताए जाने पर अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ और विधायक किरण माहेश्वरी को फटकार भी लगाई। आसन के रवैये से नाखुश होकर भाजपा विधायकों ने पहले वेल में आकर तीन मिनट तक नारेबाजी की और उसके बाद प्रश्नकाल का बहिष्कार कर दिया। भाजपा विधायक प्रश्नकाल के दौरान केवल 13 मिनट ही सदन में रहे।

आम तौर पर ऐसे हालातों में प्रश्नकाल हंगामे की भेंट चढ जाता है और जनहित से जुड़े सवालों पर सरकार की ओर से जवाब नहीं आ पाते। लेकिन आज आसन से सख्ती दिखाते हुए डॉ. सीपी ने अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल किया और सभी सवालों पर मंत्रियों से जवाब दिलवाए।