मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी : आयुर्वेद कॉलेज, उदयपुर में प्रवेश सीटों की संख्या बढ़ाई

6

उदयपुर स्थित राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय में स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में आर्थिक रूप से कमजोर (ईडब्ल्यूएस) वर्ग के विद्यार्थियों को आरक्षण दिए जाने हेतु प्रवेश के लिए सीटों की संख्या बढ़ाई गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए महाविद्यालय के स्नातक पाठ्यक्रम में 15 तथा स्नातकोश्रर में 10 सीटें बढ़ाने के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, उदयपुर में स्नातक एवं स्नातकोश्रर पाठ्यक्रमों में नियमित प्रवेश क्षमता क्रमश: 60 और 40 है। अब इसे बढ़ाकर 75 और 50 किया गया है। इस सीट वृद्धि के फलस्वरूप राज्य सरकार पर प्रति वर्ष 72.79 लाख रूपए का अतिरिक्त विश्रीय भार आएगा।

गहलोत के इस निर्णय से बड़ी हुई सीटों पर पूर्व में ही प्रवेश ले चुके छात्रों का एक वर्ष का समय खराब नहीं होगा। इस विषय में वित्त विभाग की अनुमति के बिना विद्यार्थियों को अतिरिक्त सीटों पर प्रवेश देने के लिए उत्तरदायी अधिकारियों अथवा कार्मिकों से स्पष्टीकरण प्राप्त कर नियमानुसार कार्यवाही भी की जाएगी।

संगणक का पदनाम अब सांख्यिकी सहायक होगा

मुख्यमंत्री गहलोत ने आयोजना एवं सांख्यिकी विभाग की सांख्यिकी अधीनस्थ सेवा के संगणक पद का नाम परिवर्तित कर सांख्यिकी सहायक करने प्रस्ताव का भी अनुमोदन कर दिया है। राज्य सरकार के कर्मचारी संघों एवं अन्य कार्मिकों ने इस संबंध में ज्ञापन प्रस्तुत कर संगणक पदनाम परिवर्तित करने का अनुरोध किया था।

यह भी पढ़ें-यात्रियों की संख्या कम होने के कारण जयपुर से मुंबई जाने वाली 3 फ्लाइट्स रद्द