जैन समुदाय का समाज व राष्ट्र में महत्वपूर्ण योगदान : राज्यपाल कोश्यारी

225

विश्व शांति केंद्र से दुनिया में शांति व सद्भावना का संदेश प्रसारित होगा : आचार्य लोकेश

नई दिल्ली। अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ लोकेशजी ने महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री भगत सिंह कोश्यारी से भेंटकर राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर चर्चा की। साथ ही आचार्य श्री ने राज्यपाल को अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा गुरुग्राम में स्थापित किए जा रहे विश्व शांति केंद्र परियोजना की जानकारी भी दी। शिष्टमंडल में मुंबई के श्री किशोर खाबिया मौजूद रहे।

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जैनाचार्य लोकेशजी ने विश्व शांति केंद्र परियोजना की जानकारी युक्त फोल्डर राज्यपाल कोश्यारी को देते हुए उन्हें बताया कि हाल ही में 17 अप्रैल 2022 को इसका भूमिपूजन समारोह आयोजित किया गया। यह भारत का पहला ‘विश्व शांति केंद्र’ होगा। यह केंद्र विश्वभर में शांति व सद्भावना की स्थापना के लिए कार्य करेगा एवं ध्यान, योग, भारतीय संस्कृति व जैन जीवन शैली आधारित साईंटिफिक कार्यक्रमों के माध्यम से इसमें युवाओं के व्यक्तित्व विकास, महिलाओं के सशक्तिकरण व बच्चों के संस्कार निर्माण के विविध आयाम भी संचालित होंगे।

महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री भगत सिंह कोश्यारी ने आचार्य श्री को विश्व शांति केंद्र परियोजना के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मुझे विश्वास है कि यह केंद्र विश्व भर में अहिंसा, शांति के साथ-साथ भारतीय संस्कृति एवं वसुधैव कुटुंबकम के संदेश को प्रसारित करने में सक्षम रहेगा। उन्होंने कहा कि जैन समुदाय का सामाजिक एवं राष्ट्रीय कार्यों में महत्वपूर्ण योगदान है, यह समुदाय मुश्किल घड़ी में अग्रणी होकर सेवा कार्यों में आगे रहता है। इस अवसर पर, किशोर खाबिया ने आचार्य श्री लोकेशजी के नेतृत्व में अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा संचालित मानवतावादी गतिविधियों की जानकारी दी।