डिस्कॉम के निजीकरण के विरोध में बिजलीकर्मियों ने एसई कार्यालय के सामने छठे दिन भी धरना दिया

16

विद्युत वितरण निगम श्रमिक संघ के आह्वान पर जयपुर धरने में भी शामिल हुए झुंझुनूं के कर्मचारी

झुंझुनूं। निजीकरण के विरोध में विद्युत वितरण निगम श्रमिक संघ की ओर से एसई कार्यालय के सामने दिया जा रहा धरना सोमवार को छठे दिन जारी रहा। धरने पर बगड़ उपखंड के कार्यकर्ता बगड़ इकाई अध्यक्ष मोहम्मद इरफान के नेतृत्व में धरने पर बैठे। धरना को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष देवकरण सैनी ने कहा कि जिले में एफआरटी, जीएसएस रखरखाव तथा ट्रांसफर लोडर ठेका निरस्त नहीं किए जाने पर आंदोलन जारी रहेगा।

उपाध्यक्ष सुनील शर्मा ने कहा कि निजीकरण के खिलाफ लड़ाई पुरजोर ताकत से लडऩी होगी। संगठन मंत्री नरेश स्वामी, मनोज सिंह जिला मंत्री के नेतृत्व में प्रदर्शन किया गया। धरने पर बगड़ उपखंड के मनोज सिंह, निरंजन सैनी, मनीराम सैनी, तौफिक अहमद, भवानी बोयल, सचिव विकास बामिल, बलवान, अनवर हुसैन, पवन कुमार, हजारीलाल, कन्हैयालाल, रजनीश कुमार, सत्यजीत गर्वा आदि बैठे। इस अवसर पर सहायक लेखा शाखा के सुंदरलाल, अभिषेक शर्मा, जगदीश पारीक, नरेश, नरेंद्र जागृत, पंकज, सुनीता, सुमन, परवीन अवाना, गुटूराम सैनी, सुरेश कुमार शर्मा आदि मौजूद रहे ।

इधर जयपुर में विद्युत भवन के सामने धरने के 63 दिन झुंझुनूं से डिस्कॉम महामंत्री नरेंद्रसिंह राठौड़ के नेतृत्व में धरना दिया गया। धरना स्थल पर मौके पर मुख्य कार्मिक अधिकारी राकेश शर्मा ने अनुकंपा पर लगे कर्मचारी को लिपिक बनाने, तकनीकी कर्मचारियों के पदनाम परिवर्तन विद्युत भत्ता बढ़ाने तथा कर्मचारियों को मेडिकल लाभ देने सहित मांगो को लिखित पत्र देने के बाद धरना समाप्त किया। जिला महामंत्री सुरेश शर्मा ने बताया कि लंबे समय से चल रहे धरने से कर्मचारियों को लाभ मिलेगा कर्मचारी वर्ग में खुशी की लहर है। कार्यकारी अध्यक्ष वीरेंद्र तंवर, जिला मंत्री विजेंद्र खीचड़, सचिव विकास नेहरा, अनिल शर्मा धरने में जयपुर शामिल हुए।

यह भी पढ़ें- बहरोड़-कुंड रोड निर्माण : ठेकेदार कंपनी ने 50 करोड़ के नुकसान की क्षतिपूर्ति मांगी, कमेटी फैसला करेगी