लबाना समाज ने पीड़ितों को दिया 10.78 लाख का सहयोग

14

डूंगरपुर। 38 दिन पहले 12 अगस्त को गुजरात के राजकोट में हुए आग हादसे के बाद झुलसे 8 युवाओं के परिवार की मदद के लिए युवा मण्डल के आह्वान पर समाज के लोग आगे आए। समाज जनों में 34 दिनों के भीतर लगभग 11 लाख की राशि एकत्र कर पीडि़तों के परिजनों को सुपुर्द की।

हादसे के बाद से लगातार मिल रही आर्थिक सहायता राशि का ब्यौरा प्रस्तुत करने के लिए बैठक का आयोजन जिला मुख्यालय के निजी कॉलेज भवन परिसर में हुआ। राजकोट आग हादसे लबाना समाज के पांच झुलसे युवा दम तोड़ चुके है। वही अन्य 3 गंभीर झुलसे युवक गुजरात के अलग अलग अस्पतालों में उपचाररत है। पांचवे युवक लक्ष्मण पुत्र अम्बा लाल लबाना निवासी माड़ा की मौत 3 दिन पूर्व ही हुई है।

बैठक के दौरान गंगेश्वर युवा मण्डल के अध्यक्ष हेमन्त आडीवली ने युवाओं के इस अभूतपूर्व प्रयास के लिए धन्यवाद दिया। वही कोषाध्यक्ष हरिकृष्ण लबाना ने खाते में जमा हुई राशि का ब्यौरा प्रस्तुत किया।

युवा मण्डल समिति के सचिव सुबोधकांत नायक ने बताया कि विगत 34 दिनों से चल रही सहयोग राशि के संग्रहण का 19 सितम्बर अंतिम दिन था। आरम्भ से अब तक विभिन्न माध्यमों से जमा हुई कुल दस लाख 78 हजार पांच सौ चौरानवे रुपये में से अब तक सभी 8 पीडि़तों के परिजनों को एक लाख बीस हजार प्रति परिवार दिए गए।

शेष रही कुल राशि एक लाख अठारह हजार पांच सौ चौरानवे में युवा मण्डल सदस्यों में और सहयोग राशि जोड़ते प्रत्येक पीडित के खाते में 15-15 हजार की राशि और ट्रांसफर करने का निर्णय लिया गया।

इस प्रकार लबाना समाज अब तक प्रत्येक पीडि़त परिवार को एक लाख पैंतीस हजार की राशि समाजजनों के सहयोग से प्रदान कर चुका है। रविवार को बैठक के दौरान कर्मचारी संगठन सहित युवा मण्डल के निर्देशन में एक प्रतिनिधि मंडल के नाम मनोनीत किए गए। जिसमे पीडि़त परिवार के परिजन भी शामिल करते हुए राजकोट में पुलिस प्रशासन से पूरे मामले में अब तक हुई जांच पर वार्ता करेगा।

घटना के कारणों के खुलासे के लिए गुजरात पुलिस के आला अधिकारियों से मिल कर इसके खुलासे की मांग करेगा। बैठक के दौरान माड़ा, गामड़ी अहाड़ा, लोड़वाड़ा, बिछीवाड़ा, आडीवली के युवाओं सहित कर्मचारी संगठन के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें- अमले की नजर सिर्फ पीछोला पर, जलकुंभी का मैदान बना कुम्हारिया तालाब, मछलियों के जीवन पर संकट