कोटा: कोचिंग संस्थानों ने स्वयं पहल करते हुए तय किए क्लासरूम कोचिंग के लिए सुरक्षा मापदण्ड

6
kota Coaching institutes have set some rules for themselves
kota Coaching institutes have set some rules for themselves

कोटा। कोविड-19 कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के चलते देशभर में चल रहे लॉकडाउन में अब ढील दी जाने लगी है। धीरे-धीरे स्थितियां सामान्य होने की तरफ आगे बढ़ रही हैं। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा भी सुरक्षा उपायों के साथ विभिन्न कार्यों की अनुमति दी जाने लगी है। ऐसे में कोटा के कोचिंग संस्थान भी आशान्वित हैं कि जल्द ही कोटा में क्लासरूम कोचिंग शुरू होगी और इसके लिए कोचिंग संस्थानों ने तैयारियां भी शुरू कर दी है।

कोटा एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी ने बताया कि कोटा के कोचिंग संस्थानों ने स्वयं के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी ने बताया कि कोटा के कोचिंग संस्थानों ने स्वयं के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं, जिसमें स्टूडेंट के स्वास्थ्य और सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए अभिभावकों के विशस पर खरा उतरने के लिए मापदण्ड तय किए गए हैं। कोटा के कोचिंग संस्थान देश में पहला उदाहरण प्रस्तुत करने जा रहे हैं, जहां स्वयं के लिए गाइड लाइन तय की गई है।

कोटा में क्लासरूम कोचिंग शुरू होगी और इसके लिए कोचिंग संस्थानों ने तैयारियां भी शुरू कर दी है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले लॉकडाउन के दौरान कोटा से 50 हजार स्टूडेंट्स को सुरक्षित घर पहुंचाकर कर भी कोटा के कोचिंग संस्थानों ने श्रेष्ठ उदाहरण प्रस्तुत किया था। माहेश्वरी ने बताया कि कोटा के कोचिंग संस्थानों द्वारा क्लासरूम कोचिंग के लिए बरती जाने वाली सावधानियों को लेकर तैयार किए गए दिशा-निर्देशों में हर कदम पर स्टूडेंट्स की सुरक्षा व स्वस्थता का ध्यान रखा गया है।

यह भी पढ़ें-एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट ने प्रारंभ की ऑनलाइन फ्री जेईई मेन ड्रिल टेस्ट सीरीज

कोटा कोचिंग संस्थानों द्वारा निम्र स्व: निर्देश तैयार किए गए हैं, जिनके तहत स्टूडेंट्स को क्लासरूम कोचिंग दी जाएगी। इसमें स्टूडेंट्स के कै पस में प्रवेश से लेकर वापस जाने तक सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क व सेनेटाइजेशन सहित संक्रमण रोकने के हर संभव उपाय किए जाएंगे। राज्य सरकार द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों व गाइडलाइन की भी पालना सुनिश्चित की जाएगी।

क्लासरूम में बरती जाने वाली सावधानियां

  • सोशल डिस्टेंसिंग के लिए कक्षा कक्षों की निर्धारित क्षमता से आधे
  • स्टूडेंट्स ही बैठाए जाएंगे।
  • स्टूडेंट्स को डायगोनली (तिरछे क्रम में) बिठाया जाएगा, जिससे एक-दूसरे से दूरी अधिक रह सके।
  • कोचिंग परिसर के किसी भी क्षेत्र में बिना मास्क या फेसशील्ड के ठहरने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

कोचिंग के स्व निर्धारित नियम

  • कोचिंग कैम्पस के भीतर स्टूडेंट्स की सुरक्षा को लेकर कोचिंग कैम्पस के एंट्री प्वाइंट पर ही स्टूडेंट्स को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए निर्देशित किया जाएगा।
  • जिस भी कैम्पस में स्टूडेंट जाएंगे उसके मुख्यद्वार पर इसके लिए व्यवस्था की जाएगी।
  • हर स्टूडेंट को छाता दिया जाएगा, स्टूडेंट छाता खोलकर चलेंगे ताकि सोशल डिस्टेंसिंग स्वत: निर्धारित हो सके।

कोचिंग कैम्पस के भीतर

  • कैम्पस में प्रवेश के समय हर स्टूडेंट के कोचिंग आईडी कार्ड की जांच की जाएगी।
  • हर स्टूडेंट की कैम्पस के मुख्यद्वार पर रोजाना थर्मल स्केनिंग की जाएगी।
  • मुख्यद्वार पर प्रवेश के समय सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए ही प्रवेश दिया जाएगा।
  • स्टूडेंट को मास्क या फेस शील्ड लगाने के बाद ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।
  • राज्य सरकार के निर्धारित मापदण्डों के अनुसार जहां-जहां स्टूडेंट्स जाएंगे वहां
  • जमीन पर मार्किंग बनाई जाएगी। इस मार्किंग के आधार पर ही स्टूडेंट्स आगे बढ़ेंगे।
  • हर कै पस में निर्धारित स्थानों पर स्टूडेंट के लिए सेनेटाइजर उपल ध होगा, हाथ धुलवाए जाएंगे।