ओडिशा का लक्ष्य देश में पर्यटन के मामले में शीर्ष 3 राज्यों में से एक बनना है- पर्यटन मंत्री, ओडिशा सरकार

11

जयपुर। ओडिशा सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है कि राज्य देश में पर्यटन के मामले में शीर्ष 3 राज्यों में से एक बन जाए। एक राज्य के रूप में ओडिशा शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, कृषि, सड़क और महिला सशक्तिकरण जैसे सभी क्षेत्रों में अच्छा कर रहा है। पुरी जगन्नाथ और लिंगराज के पुनरुद्धार के साथ पर्यटन सबसे आगे आ गया है। ओडिशा में पर्यटन की प्रचुर संभावना है, वहां अनेक पर्यटन स्थल मौजूद हैं।

राजस्थान और ओडिशा दोनों पर्यटन की दृष्टि से ईश्वर प्रदत्त राज्य हैं। पर्यटन, ओडिया भाषा, साहित्य और संस्कृति मंत्री, ओडिशा सरकार, ज्योति प्रकाश पाणिग्रही ने यह जानकारी दी। वे बुधवार को होटल ललित में आयोजित ‘ओडिशा टूरिज्म रोडशो -2021’ में उद्घाटन भाषण दे रहे थे।

कार्यक्रम का आयोजन फिक्की द्वारा ओडिशा पर्यटन के सहयोग से किया गया था। रोड शो के दौरान 500 से अधिक बी-टू-बी नेटवर्क की बैठकें हुईं।

उन्होंने आगे बताया कि राज्य में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए संस्कृति और परंपराएं भी प्रमुख योगदान देती हैं। ओडिशा की संस्कृति 2 हजार साल से अधिक पुरानी है। राज्य अपने शास्त्रीय नृत्यों – ओडिसी और गोटीपुआ के लिए प्रसिद्ध है। ओडिशा केवल एक तीर्थस्थल नहीं है, यह एक प्रमुख समुद्र तट गंतव्य भी है।

आठ ब्लू फ्लैग बीचों में से एक ओडिशा में है। यहाँ 5 और विकसित करने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं।

कार्यक्रम में संबोधित करते हुए ओडिशा सरकार के पर्यटन, खेल और युवा सेवाओं के प्रमुख सचिव, विशाल कुमार देव ने ओडिशा में विभिन्न प्रकार के पर्यटन के अवसरों जैसे कि आध्यात्मिक पर्यटन, वन्यजीव पर्यटन, इकोटूरिज्म, हस्तशिल्प पर्यटन, आदि के बारे में बताया।

उन्होंने पोस्ट-कोविड पर्यटन की योजनाओं पर भी प्रकाश डाला और कहा कि 2021 में राज्य में क्रूज पर्यटन, होमस्टे, हेरिटेज हॉस्पिटैलिटी के विकास के साथ-साथ इकोटूरिज्म सुविधाओं को अपग्रेड करने पर भी ध्यान दिया जाएगा।

ओडिशा सरकार के निदेशक-पर्यटन, श्री सचिन रामचंद्र जादव ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि राज्य में कोविड -19 को प्रभावी तरीके से निपटने के तरीके से ओडिशा में सुशासन की मिसाल दी जा सकती है। हमने व्यापक सेनिटाइजेशन और ट्रेनिंग प्रोग्राम्स आयोजित किए हैं।

उल्लेखनीय है कि फिक्की का उद्देश्य ओडिशा राज्य के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करना, रणनीतियां तैयार करके ट्रैवल एवं टूरिज्म क्षेत्र को पुनर्जीवित करने के लिए सर्वोत्तम नीतियों को लागू करना है। सम्मेलन की थीम ओडिशा को एक लोकप्रिय वैश्विक पर्यटन स्थल के रूप में बढ़ावा देना है।