लाहौर गैंगरेप में एक आरोपी गिरफ्तार, इमरान ने कहा-रेपिस्ट्स को सरेआम फांसी दें

4

पाकिस्तान के लाहौर एक्सप्रेस वे पर पिछले हफ्ते एक महिला के साथ बच्चों के सामने गैंगरेप-लूटपाट हुई थी

लाहौर। पाकिस्तान के लाहौर में पिछले हफ्ते हुए गैंगरेप पर जनता का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। इस मामले में तीन आरोपी हैं। सिर्फ एक की गिरफ्तारी हो सकी है। दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि दुष्कर्मियों को चौराहे पर फांसी दी जानी चाहिए, या उन्हें ऑपरेशन के लिए नपुंसक बना देना चाहिए।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि पीड़ित महिला पाकिस्तानी मूल की फ्रेंच सिटीजन है। घटना के वक्त कार में उसके साथ दो बच्चे भी थे। इस्लामाबाद, लाहौर और कराची समेत पाकिस्तान के कई शहरों में घटना के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं।

इमरान ने क्या कहा

घटना के खिलाफ देश में गुस्सा है। इमरान ने सोमवार को एक इंटरव्यू में कहा- कत्ल के आरोपियों को जो सजा दी जाती है, वही रेपिस्ट्स को भी मिलनी चाहिए। उन्हें चौराहे पर लटका (फांसी) दिया जाना चाहिए। इसके अलावा उन्हें कैमिकल या सर्जरी के द्वारा नपुंसर बनाया जा सकता है। ऐसे लोगों को वो सजा देनी चाहिए जो दूसरे लोगों के लिए मिसाल बनें। इमरान ने हालांकि, ये भी माना कि इस तरह के कदम उठाना आसान नहीं क्योंकि एक वर्ग इनका विरोध भी करेगा।

एक गिरफ्तार

गैंगरेप की घटना के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी का नाम अशफाक अली बताया गया। पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार के मुताबिक, आरोपी ने जुर्म कबूल कर लिया है। उसके साथी आबिद अली की तलाश की जा रही है। पुलिस ने इस मामले में 15 संदिग्धों को हिरासत में लिया था।

कैसे हुई थी घटना

पिछले हफ्ते एक महिला कार में दो बच्चों के साथ लाहौर लौट रही थी। एक्सप्रेस-वे पर गाड़ी का पेट्रोल खत्म हो गया। महिला ने पति को फोन पर पेट्रोल खत्म होने की जानकारी दी और कार के शीशे बंद कर अंदर बैठ गई। पति वहां पहुंचता इसके पहले ही वहां दो बदमाश आए। कार का शीशा तोड़कर महिला और बच्चों को बाहर निकाला। उनका सामान और फोन छीन लिया। जंगल में महिला से दुष्कर्म किया। घटना सामने आने के बाद आम लोग ही नहीं बल्कि सेलेब्स भी सड़कों पर उतर आए।

पुलिस कमिश्नर के बयान पर नाराजगी

लाहौर के पुलिस कमिश्नर उमर शेख ने मीडिया से बातचीत में घटना के लिए महिला को ही जिम्मेदार ठहरा दिया। कहा- वो इतनी रात को बच्चों के साथ एक्सप्रेस-वे घूमने क्यों निकली थी। साथ में कोई पुरुष क्यों नहीं था। हर घटना के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराना गलत है। शेख को इस बयान के लिए बाद में माफी मांगनी पड़ी। पाकिस्तान के लीगल एक्सपर्ट ओसामा मलिक के मुताबिक- मुल्क में रेप के कुल मामलों में से सिर्फ दो फीसदी को ही सजा हो पाती है।