ऑनलाइन एम्ब्रॉयडरी वर्कशॉप: दर्शकों ने विभिन्न स्टिचिज और कलर कॉम्बिनेशन को समझा

7

कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार और जेकेके द्वारा आयोजित

जयपुर। कला एवं संस्कृति विभाग, राजस्थान सरकार और जवाहर कला केंद्र (जेकेके) द्वारा जेकेके के फेसबुक पेज पर आयोजित ‘आर्ट ऑफ एम्ब्रॉयडरी’ ऑनलाइन वर्कशॉप के दूसरे दिन दर्शकों ने बेसिक एम्ब्रॉयडरी के विभिन्न स्टिचिज एवं कलर कॉम्बिनेशन्स के बारे में सीखा। वर्कशॉप का संचालन डॉ. मीना झाला ने किया।

वर्कशॉप की आरंभ में कलर कॉम्बिनेशन के बारे में बताया गया। एम्ब्रॉयडरी के बेस के लिए कलर का चयन करने, ओपेक अथवा शायनी फैब्रिक के उपयोग, कॉटन अथवा सिल्की धागों के उपयोग, का पर चर्चा की गई। इसके बाद, प्रशिक्षक ने बताया कि ऐनालॉगस, कॉन्ट्रास्टिंग, अक्रोमेटिक, एसेंट कलर या कोई और कलर स्कीम निर्धारित करनी चाहिए। उन्होंने बताया कि “प्रत्येक राज्य की अपनी पारंपरिक एम्ब्रॉयडरी होती है जैसे पंजाब में फुलकारी, राजस्थान में ए प्लिक वर्क, गुजरात में कॉलम वर्क, हेरिंगबोन स्टिच वर्क आदि।”

प्रशिक्षक ने विभिन्न वैरिएशन्स प्रदर्शित किए जैसे कि पासिंग, क्रॉसिंग, लूप्स, हाफ स्टिचिज, जिग-ज़ैग, डबल स्टिचिज के अतिरिक्त हेरिंगबोन स्टिच, चेन स्टिच, शेवरॉन स्टिच, फैदर स्टिच, बटनहोल स्टिच जैसे बेसिक स्टिच के साथ कॉम्बिनेशन्स करना भी सिखाया। वर्कशॉप के दौरान, उन्होंने स्टिच वैरिएशन्स पर आधारित स्वयं का एम्ब्रॉयडरी वर्क भी प्रदर्शित किया।

इस ऑनलाइन वर्कशॉप का समापन रविवार 17 जनवरी को होगा। यह सेशन डिजाइन कॉन्सेप्ट और कलर कॉम्बिनेशन्स पर केंद्रित रहेगा।