कोविड-19 के दौरान दूरसंचार सेवाओं का प्रदर्शन शानदार बना रहा

6
telecom companies
telecom companies

सीओएआई-आईएमसी और एरिक्सन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित वेबिनार में यह बात सामने आई कि भारतीय उपभोक्ताओं अच्छी चीजें साझा करने के लिए मोबाइल डेटा के उपयोग में दूरसंचार कंपनियों को विश्वसनीय इकाइयों के तौर पर देखते हैं। इस रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई कि 60 वर्ष से अधिक आयु और भारत में कोविड-19 के प्रकोप से सबसे अधिक प्रभावित लोगों में 89 प्रतिशत इस बात से सहमत हैं कि वीडियो कॉलिंग से उन्हें इस संकट के दौरान अपने परिवार और मित्रों के संपर्क में बने रहने में मदद मिली।

इस रिपोर्ट में पाया गया कि भारत में आईसीटी के लचीलेपन से उपभोक्ताओं को संकट पर नजऱ रखने में मदद मिली और यह सिद्ध हुआ कि यातायात बढऩे के बावजूद दूरसंचार नेटवर्क मजबूत बना रहा।

इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 77 प्रतिशत अभिभावकों का कहना है कि आईसीटी की मदद से बच्चों को घर बैठे शिक्षा मिल रही है।

भारत में फिक्स्ड ब्रॉडबैंक से जुड़े नेटवर्क पर खर्च औसत समय दो घंटे प्रतिदिन बढ़ा है और 4 जी नेटवर्क से जुड़े लोगों के लिए भी औसत समय दो घंटे प्रतिदिन बढ़ा है।

भारत में 71 प्रतिशत लोग फिक्स्ड ब्रॉडबैंड के निष्पादन से बहुत संतुष्ट थे, जबकि 66 प्रतिशत लोगों का कहना है कि मोबाइल ब्रॉडबैंड नेटवर्क का निष्पादन इस संकट से पूर्व की तुलना में समान या बेहतर रहा।

फिक्स्ड नेटवर्क पर सबसे अधिक यातायात बढऩे के बावजूद भारत में 65 प्रतिशत लोग मोबाइल ब्रॉडबैंड को वाईफाई के जितना ही महत्वपूर्ण मानते हैं।

दूरसंचार सेवाओं से वे अपना मानसिक स्वास्थ्य और सेहत सुधारने में मदद मिली

भारत में, कोविड-19 महामारी के दौरान दैनिक जीवन की गतिविधियों और इसके बाद की निम्र गतिविधियों को सबसे अधिक प्रतिशत में प्रतिक्रिया मिली। अस्सी प्रतिशत लोग इस बात से सहमत है कि कनेक्टिविटी और डिवाइस से उन्हें अपने परिवार और मित्रों के संपर्क में बने रहने में मदद मिली, जबकि 77 प्रतिशत लोगों का मानना है कि इससे उन्हें अपने बच्चों की शिक्षा जारी रखने में मदद मिली और इतने ही प्रतिशत लोगों ने कहा कि इससे उन्हें घर से काम कर अपनी नौकरी की जिम्मेदारियां पूरी करने में मदद मिली।

वहीं 75 प्रतिशत लोग इस बात से सहमत दिखे कि इससे उन्हें अपने बच्चों को मनोरंजक गतिविधियों में मशगूल रखने में मदद मिली और 64 प्रतिशत लोगों का मानना है कि दूरसंचार सेवाओं से वे अपना मानसिक स्वास्थ्य और सेहत सुधारने में मदद मिली। इस रिपोर्ट के नतीजे सीओएआई-आईएमसी और एरिक्सन द्वारा संयु त रूप से आयोजित एक वेबिनार में जारी किए गए।

यह भी पढ़ें-एयरटेल की जयपुर राइट्स के लिए डोर स्टेप सर्विस, घर बैठे लीजिए सिम कार्ड

इस वेबिनार में एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट के कार्यकारी संपादक और रणनीतिक विपणन के प्रमुख पैट्रिक सेरवॉल, एरि सन इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मार्केट एरिया (दक्षिण पूर्व एशिया, ओशनिया एवं भारत) के लिए नेटवर्क सॉल्यूशंस प्रमुख नितिन बंसल, नेटवर्क सॉल्यूशंस प्रमुख- स्ट्रैटेजिक नेटवर्क इवोल्यूशन मार्केट एरिया (दक्षिण पूर्व एशिया, ओशनिया और भारत) डॉ टर इर एनजी थिया सेंग ने प्रतिभाग किया। इस सत्र के सूत्रधार सीओएआई के महानिदेशक राजन एस मैथ्यूज रहे।