रीट लेवल-2 की परीक्षा रद्द, अब 62 हजार पदों पर शिक्षकों की भर्ती होगी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लिया बड़ा फैसला

जयपुर। रीट लेवल-2 की परीक्षा नए सिरे से आयोजित की जाएगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रीट लेवल-2 की परीक्षा को रद्द करने का फैसला किया है। रीट के जरिए अब 62 हजार पदों पर शिक्षकों की भर्ती होगी। रीट लेवल2 की पहली परीक्षा एलिजिबिलिटी के आधार पर होगी। वहीं दूसरी परीक्षा शिक्षक भर्ती की होगी। राज्य में विपक्ष व अभ्यर्थियों द्वारा चले रहे विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए रीट लेवल-2 की परीक्षा को रद्द किया है। मामले की जांच कर रही एसओजी को जैसे ही रीट पेपर में गड़बडी की सूचना मिली तुरंत जांच शुरू करा दी गई थी। अब तक कई बड़े अधिकारियों को बर्खास्त भी किया जा चुका है। राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (REET) में करीब 25 लाख युवाओं ने भाग था। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि पहले करीब 32 हजार शिक्षक भर्ती की घोषणा की गई थी। लेकिन अब कुल पदों की संख्या 62 हजार कर दी गई है।

26 सितंबर 2021 को हुआ था परीक्षा का आयोजन

रीट परीक्षा का आयोजन 26 सितंबर 2021 को हुआ था। इसके लिए राज्य के सभी 33 जिलों में कुल 3,993 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे। दो स्तरों में आयोजित इस परीक्षा के लिये 16.51 लाख उम्मीदवारों ने नामांकन किया था। रीट लेवल-1 और लेवल-2 व दोनों स्तर की परीक्षाओं में करीब 25 लाख अभ्यर्थियोंं ने भाग लिया था।

डोटासरा ने किया आरोपों का खंडन

सीएम गहलोत ने कैबिनेट की बैठक के बाद कहा कि हम परीक्षा रद्द करके खुश नहीं हैं। लेकिन हम बेरोजगारों के भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहते हैं। क्योंकि हम जानते है कि अगर हम यह फैसला नहीं लेंगे तो बीजेपी वाले किसी भी हाल में परीक्षा समय पर नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि सरकार ने शिक्षक भर्ती के पद बढ़ा दिये हैं। अब 62 हजार पदों पर भर्ती होगी। वहीँ पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि रीट पेपर लीक मामले में मेरी जरा सी भी संलिप्तता साबित हो जाए तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा। डोटासरा ने कहा कि मेरे परिवार के 13 लोगों ने पेपर दिया। उनमें से एक भी रीट में पास नहीं हुआ।