ज्ञानार्जन के लिए किशोर अवस्था सबसे समय : महाश्रमण

37
तेरापंथ किशोर मंडल

तेरापंथ किशोर मंडल का राष्ट्रीय अधिवेशन

छापर। देशभर से 700 से अधिक किशोर, इस तीन दिवसीय अधिवेशन में आएं। पहले दिन क्विज, एडजैप, भव्य भक्ति संध्या, आदि का आयोजन किया गया। अगले दिन सुबह किशोर छापर में आचार्य महाश्रमण के दर्शन किए। देशभर से आए किशोरों में से 60 किशोरों ने चर्चा धारों रै गीत की प्रस्तुति दी। गुरुदेव ने किशोर मंडल को प्रेरणा देते हुए अपनी मंगल देशना में कहा कि मनुष्य के जीवन में किशोर अवस्था विकास व ज्ञानार्जन वाली अच्छी अवस्था होती है। इतने किशोर बैठे हैं, भौतिक माहौल में होते ही हैं, आध्यत्मिक माहौल में बैठे हैं यह विशेष बात है। यह गीत चर्चा धारों रे अभी प्रस्तुत किया गया, ऐसे गीत को किशोर गाए यह अपने आप में बड़ी बात है।

बच्चों का एकत्रित होना विशेष बात

कोई फिल्मी गीत किशोर गाए यह संभव है, पर तत्वज्ञान के गहरे व पुराने गीत को बच्चों के मुख से सुना जाना एक विशेष बात है। यह बहुत महत्वपूर्ण बात है कि किशोरों को अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के आयाम के अंतर्गत किशोरों को विकास होने व संस्कार पाने, में योगदान हो सकता है। किशोर जैन दर्शन को समझ कर दूसरों को इसके बारे में बताएं, सिर्फ अपने देश में ही नहीं विदेश में भी उनकी भाषा में समझाया जा सकता है। यह अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद के तत्वाधान में किशोर मंडल का अधिवेशन हो रहा है इतने बच्चों का एकत्रित होना विशेष बात है।

किशोर मंडल सरदारपुरा के ऋषभ श्यामसुखा प्रशांत मेहता, चिराग चोपड़ा, मुदित बुरड़, लक्षित जैन व हर्षित जैन ने आचार्य महाश्रमण, मुनि महावीर कुमार, आदि की सेवा उपासना करी।

मेडल देकर सम्मानित किया

तेरापंथ किशोर मंडल

शाम को श्रेयास गोपाल, बीसी जैन भलावत, नंदीतेश निलेय, विमल कटारिया से मिलना हुआ और उनसे जीवन में आगे बढऩे की प्रेरणा मिली। तीसरे दिन खतरों के खिलाड़ी, कल्चरल इवेंट, अवार्ड सेरेमनी का आयोजन किया। टीकेएम सरदारपुरा से ऋषभ श्यामशुखा ने गुरुदेव के समक्ष सामुहिक गीतिका में भाग लिया था, जिसके लिए उन्हें मुनि योगेश कुमार की उपस्थिति में अभातेयुप अध्यक्ष पंकज डागा, अभातेयुप महामंत्री पवन मांडोत, राष्ट्रीय किशोर मंडल प्रभारी विशाल पितलिया, मयंक धाकड़, आदि के द्वारा मेडल देकर सम्मानित किया।

इस 17वां राष्ट्रीय तेरापंथ किशोर मंडल अधिवेशन में टीकेएम सरदारपुरा से प्रशांत मेहता, चिराग चोपड़ा, मुदित बुरड़, लक्षित जैन व हर्षित जैन की सहभागिता रही।

यह भी पढ़ें :गर्भकाल में भावों के आधार पर हो सकती है देवगति की प्राप्ति : महाश्रमण