टोल कलेक्शन : ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम का इस्तेमाल करके टैक्स वसूला जाएगा

9

आने वाले समय में सभी से जीपीएस यानी ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम का इस्तेमाल करके टैक्स वसूला जाएगा। इस नए सिस्टम को डेवलप करने के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने तकनीकी सलाहकार के लिए टेंडर बुलाए हैं।

ये एनएचएआई को ये सिस्टम तैयार करने में मदद करेगा। केंद्रीय सड़क, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने मार्च में संसद में कहा कि अगले एक साल मौजूदा टोल कलेक्शन सिस्टम को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाएगा, यानी मौजूदा टोल प्लाजा हटा दिए जाएंगे। इसकी जगह पर टोल कलेक्शन के लिए नया सिस्टम बनाया जा रहा है।

मौजूदा टोल कलेक्शन की व्यवस्था को खत्म करके ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम के जरिए टोल टैक्स वसूला जाएगा।

इसके तहत वाहन जितने किलोमीटर तक हाईवे का प्रयोग करेगा, उतने किलोमीटर के लिए ही टोल टैक्स की वसूली की जाएगी। हाईवे पर चढऩे और उतरने की रिकॉर्डिंग जीपीएस के जरिए दर्ज की जाएगी।

यह भी पढ़ें-हीरो मोटोकॉर्प ने अपनी सभी प्लांट और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट 1 मई तक बंद की