अनुकम्पा नियुक्ति के 54 प्रकरणों में शिथिलता

6
  • दो वर्ष में 3182 अनुकम्पा नियुक्तियां
  • मुख्यमंत्री का संवेदनशील निर्णय

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकारी कार्मिक की मृत्यु के उपरांत आश्रित द्वारा अनुकम्पा नियुक्ति के लिए आवेदन के 54 प्रकरणों में शिथिलता प्रदान की है। गहलोत के इस संवेदनशील निर्णय से इन परिवारों को सम्बल मिल सकेगा।

गहलोत ने न्यूनतम आयु सीमा एवं विलम्ब अवधि के 39, अधिआयु सीमा के 4 तथा विलम्ब से आवेदन के 11 प्रकरणों में सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए षिथिलता दी है। प्रकरणों में शिथिलता देने से मृतक आश्रित इन परिवारों को राहत मिल सकेगी।

उल्लेखनीय है कि सरकारी कर्मचारी की मृत्यु के बाद आश्रित को 90 दिवस में अनुकम्पा नियुक्ति के लिए आवेदन करना होता है। साथ ही आश्रित के नाबालिग होने की स्थिति में बालिग होने के 3 वर्ष के भीतर आवेदन करने का प्रावधान है।

गहलोत ने विगत दो वर्ष में अनुकम्पा नियुक्ति के 723 प्रकरणों में षिथिलता प्रदान करने का मानवीय निर्णय करते हुए आवेदकों को राहत प्रदान की है। मुख्यमंत्री की संवेदनषीलता के कारण विगत करीब दो वर्ष के समय में 3182 मृतक आश्रितों को अनुकम्पा नियुक्ति दी गई है।

यह भी पढ़ें-राजस्थान हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के चुनाव के लिए मतदान शुरू