नहीं होना चाहते कंगाल तो छोड़ दें ये 5 आदतें

21
गरुड़ पुराण
गरुड़ पुराण

छिन सकता है मान-सम्मान

18 महापुराणों में गरुड़ पुराण बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार गरुड़ पुराण का पाठ किसी व्यक्ति की मृत्यु के होने के बाद पढ़ा जाता है। लेकिन इसके अलावा भी पुराण में ऐसी बहुत सी बातें बताई गई हैं, जो मनुष्य के रोज की जिंदगी से संबंधित होती है। गरुड़ पुराण के अनुसार, व्यक्ति को अपनी कुछ बुरी आदतों को त्यागना चाहिए अन्यथा वह जीवन भर कंगाल बना रहता है। आइए जानते हैं कौन सी वो 5 आदतें हैं जिन्हें मनुष्य को त्याग देना चाहिए।

गरुड़ पुराण
गरुड़ पुराण

गरुड़ पुराण के अनुसार जो लोग गरीब और कमजोर व्यक्तियों पर अत्याचार करते हैंया उनका शोषण करते हैं वह व्यक्ति जीवन में काभी सुखी नहीं रह सकता। गरुड़ पुराण के अनुसार जो लोग दूसरों पर शोषण करके धन कमाते हैं, उनकी कमाई सभी संपत्ति शीघ्र नष्ट हो जाती है।

गरुड़ पुराण कहता है कि घर में कभी भी गंदगी नहीं रखनी चाहिए। कहते हैं जिस घर में गंदगी होती है उस घर में माता लक्ष्मी कभी नहीं आती। इसीलिए व्यक्ति को घर स्वच्छ रखने के साथ अपने कपड़े भी साफ-सुथरे रखने चाहिए।

गरुड़ पुराण के अनुसार लालच बहुत बुरा बला है। लालच व्यक्ति के जीवन को पूरी तरह से तबाह कर सकता है। लालच इंसान को इतना बुरा बना देता है कि वो गलत तरीकों से भी धन कमाने से नहीं सोचते। गरुड़ पुराण के अनुसार जो व्यक्ति जितना लालच करेगा माता लक्ष्मी उससे उतनी ही दूर जाएंगी।

अहंकार बुद्धि भ्रष्ट करता है

गरुड़ पुराण के अनुसार, मनुष्य को कभी भी अहंकार नहीं करना चाहिए, चाहे वह जीवन में कितनी भी सफलता हासिल कर ले। अहंकार व्यक्ति की बुद्धि भ्रष्ट करता है और ऐसे लोगों के पास धन कभी भी नहीं रुकता।

आर्थिक तरक्की नहीं कर सकते

गरुड़ पुराण के अनुसार जो लोग पैर घसीट कर चलते हैं वह जीवन में कभी भी आर्थिक तरक्की नहीं कर सकते। ऐसा माना जाता है कि जो लोग पैर घसीटकर चलते हैं उनके वैवाहिक जीवन पर गलत प्रभाव पड़ता है। ऐसे व्यक्तियों को मनमुटाव का भी सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें : धीरेंद्र शास्त्री के चमत्कारों से जुड़े विवाद की कहानी, कभी एक वक्त का खाना मिलना था मुश्किल