जेडीए लगाएगा छितरोली में 10 मेगावॉट का सोलर पावर प्लांट

13

पर्यावरण संरक्षण के साथ मितव्ययीता के लिए जेडीए का बडा कदम

9 करोड़ की सालना बिजली बिलों में होगी औसत बचत

जयपुर। जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा बगरू के समीप छितरोली में 10 मेगावाट का एक सोलर पावर प्लांट लगाया जाएगा। इस प्लांट के स्थापित होने पर जेडीए को लगभग 9 करोड रूपए सालाना बिजली के बिलों में औसत बचत होगी।
जेडीसी टी.रविकान्त ने बताया कि सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान्ट का विषेषकर द्रव्यवती नदी परियोजना, जवाहर सर्किल, सेंट्रल पार्क, रामनिवास बाग, रलावता, गजाधरपुरा तथा विभिन्न पार्को आदि में भारी बिद्युत उपयोग हो रहा है। उन्होंने बताया कि इस कार्य में आ रही बिजली की जगह रिन्यूएबल एनर्जी उत्पादन कर बचत करने की दृष्टि से बगरू के समीप छितरोली में 10 मेगावाट का एक सोलर पावर प्लांट बिल्ड ऑवन्ड एण्ड ऑपरेटड मोड पर लगाया जाएगा।
इस प्लांट के स्थापित होने पर जेडीए को लगभग 9 करोड़ रूपए सालाना बिजली के बिलों में औसत बचत होगी। जिसके लिए सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन को प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसलटेंट नियुक्त किया गया है, जिनके द्वारा इसी माह निविदा आमंत्रित की गई है। निविदाएं 24 जुलाई, 2020 तक भाग लेने हेतु खुली हुई है।
रविकान्त ने बताया कि हाल ही में जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा कार्यालय में होने वाली बिजली खपत कम करने व रिन्यूवेबल एनर्जी उत्पादन को अपनाने की दिषा में कई महत्वपूर्ण कदम उठाये।
उन्होंने बताया कि जेडीए द्वारा गत एक वर्ष में जविप्रा भवनों में रूफटॉप 366 किलोवॉट क्षमता का सोलर पावर प्लांट स्थापित कर सौर उर्जा उत्पादित की जा रही है जिससे भवन के बिजली बिल में लगभग 30 प्रतिशत कमी आयी है।
भारत सरकार के उपक्रम ई.ई.एस.एल. के माध्यम से बीईईपी (बिल्डिंग एनर्जी एफिसिऐंन्सी प्रोग्राम) कार्यक्रम के तहत प्राधिकरण भवन में विभिन्न विद्युत उपकरण यथा ए.सी., पंखे, लाईट, पम्प आदि समस्त विद्युत उपकरणों को एनर्जी एफिसिएन्ट उपकरणों में बदला
गया है।