स्थानीय निकाय आय के स्त्रोत बनाएं ताकि सफाई कर्मियों का वेतन ना रूके- अंजना पंवार

8

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य ने ली बैठक

बून्दी। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य अंजना पवार ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में विभिन्न विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर सफाई कर्मचारियों की स्थिति, उनकी समस्याओं एवं समाधान के विषय में विस्तृत चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सफाई जैसे महत्वपूर्ण कार्य में जीवन लगाने वाले इस वर्ग को समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए सभी का सहयोग आवश्यक है।

आयोग सदस्य अंजना पवार ने सफाई कर्मचारियों की संख्या को लेकर असंतोष जताया और कहा कि जनसंख्या और क्षेत्र के अनुपात में इनकी संख्या का निर्धारण होना चाहिए। रिक्त पदों के लिए भर्ती की प्रक्रिया गंभीरता से हो, समय पर पदोन्नति हो। विभिन्न विभागों में इन्हें कार्य करने के अवसर दिए जाएं। योग्यता के अनुसार अन्य पदों पर काम करने का अवसर मिले। वेतन नियमित मिले, इसके लिए आय के स्त्रोत बनाएं। सेवानिवृति पर पूरे परिलाभ मिलें तथा विदाई ससम्मान हो।

निर्देश दिए कि सफाई कार्याे के लिए कार्य की स्थितियां बेहतर हों। यूनिफार्म हो, वर्दी भत्ता बढ़ाएं या मौसम के अनुसार वर्दी दें। वार्ड में या जोन में सुविधाओं युक्त चेंजिंग रूम बनाया जाए जहां पुरुष-महिलाएं भोजन कर सकें, यूनिफार्म चेंज कर सकें और विश्राम ले सकें। आयुक्त, ईओ नियमित बैठक कर उनसे संवाद करें,समस्याएं जानें।संवेदनशीलता से समस्या समाधान करें।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, सफाई कर्मचारी वित्त एवं विकास निगम सहित अन्य विभागों की योजनाओं की जानकारी इस वर्ग तक देने के लिए सफाई कर्मियों की बस्तियों में शिविर लगाकर योजनाओं की जानकारी दी जाए। शिक्षा और स्वरोजगार से इन्हें गंभीरता के साथ जोड़ा जाए। सफाई कर्मियों के लिए आवास योजना स्थानीय निकाय बनाएं।

आयोग सदस्य ने कहा कि कोरोना महामारी जैसी दुरूह परिस्थितियों में भी नियमित सफाई का जिम्मा संभालने वाले इन सफाई कर्मचारियों एवं इनके परिवार के स्वास्थ्य की चिंता भी करनी होगी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इनकी बस्तियों में नियमित शिविर लगाए और पूर्ण स्वास्थ्य जांच कर उपचार करे। सभी सफाई कर्मियों का स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीकरण भी कराया जाए। सफाई ठेकेदार सुरक्षा उपायों पर ध्यान दें। साबुन, सैनिटाइजर, मास्क इत्यादि उपलब्ध कराएं।

यह भी पढ़ें- शारीरिक शिक्षकों का दो दिवसीय शैक्षिक अधिवेशन संपन्न