अमेरिकी वित्त विभाग का खुलासा, पाकिस्तान-तालिबान ने अल कायदा से मिलाया हाथ

10

पाकिस्तान में मौजूद तालिबान के हक्कानी नेटवर्क ने अफगानिस्तान में हमलों के लिए अल-कायदा से हाथ मिला लिया है। दोनों मिलकर एक नई यूनिट तैयार कर रहे हैं। यह खुलासा अमेरिकी वित्त विभाग ने किया है।

एक हफ्ते पहले सत्ता संभालने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के लिए यह बहुत बड़ा चैलेंज होगा, क्योंकि अफगानिस्तान में करीब तीन हजार अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं। हालांकि, तालिबान के प्रवक्ता ने इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है।

अमेरिका और अफगानिस्तान हमेशा से पाकिस्तान पर आरोप लगाते रहे हैं कि पाकिस्तानी सेना, आईएसआई और वहां की सरकार हक्कानी नेटवर्क को मदद देते हैं। आरोप है कि हक्कानी नेटवर्क के यही तालिबानी आतंकी सीमा पार करने के बाद अफगानिस्तान में हमले करते हैं। हमलों के बाद यह आतंकी पाकिस्तानी सेना की मदद से अपनी पनाहगाहों में लौट जाते हैं।

पिछले साल मार्च में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में सिखों पर हमला किया गया था। इस हमले का आरोप भी हक्कानी नेटवर्क पर लगा था और अफगान इंटेलिजेंस ने इसके सबूत अमेरिका, भारत और अपनी सरकार को सौंपे थे।

यह भी पढ़ें-अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूएई को एफ-35 फाइटर जेट्स बेचने पर रोक लगाई