किसान आंदोलन में अलगाव, दो संगठनों ने खत्म किया धरना

9

किसान मजदूर संगठन ने राकेश टिकैत को ठहराया हिंसा के लिए जिम्मेदार

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के दिन प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मचाये उत्पात के बाद किसान संगठनों में अलगाव हो गया है। एक ओर संयुक्त किसान मोर्चा सिंधु बॉर्डर पर बैठक कर रहा है, वहीं दो किसान संगठनों किसान मजदूर संगठन और भारतीय किसान यूनियन (भानु) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने आंदोलन को समाप्त घोषित कर दिया है।

किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएम सिंह ने गाजीपुर बॉर्डर पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि दिल्ली की हिंसा राकेश टिकैत की उग्र सोच का नतीजा है। उनके किसी भी प्रदर्शन से हमारा कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि टिकैत ने पहले ही ट्रैक्टर परेड को लेकर डंडा और झंडा लगाने जैसे बयान दिए थे। उस पर वो चाहते थे कि पुलिस के साथ तय रूट से अलग रास्ते पर ट्रैक्टर परेड निकाली जाए। इसीलिए 11 बजे की बात तय होने पर भी आक्रोशित किसान दस बजे ही निकल गए। यहां तक कि टिकैत ने कभी भी यूपी के किसानों से बात नहीं की।

हिंसा को लेकर वीएम सिंह ने कहा कि इस पूरे मामले में सरकार की भी गलती है। जब 11 बजे परेड निकालने की बात तय हुई थी तो आठ बजे ही निकलने वालों को क्यों नहीं रोका गया, पुलिस और सरकार क्या कर रही थी। दूसरी ओर, जब सरकार को पता था कि लाल किले पर झंडा फहराने वाले को कुछ संगठनों ने करोड़ों रुपये देने की बात की है, तब भी कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई। आखिर सरकार क्या इस प्रकार की घटना होने का इंतजार कर रही थी।