सोयाबीन तेल 79 प्रतिशत और सरसों 58 प्रतिशत महंगी हुई, और बढ़ सकती है महंगाई

19

कोरोना काल में आम लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम ले रही। एक तरफ कोरोना वायरस से लोगों के जान पर बन आई है, तो दूसरी ओर महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है। बीते 1 साल में महंगाई तेजी से बड़ी है।

देश में एग्री प्रोडक्ट्स का सबसे बड़ा वायदा बाजार (फ्यूचर मार्केट) नेशनल कमोडिटी एंड डेरीवेटिव्स एक्सचेंज बीते 1 साल में ही 44 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ा है। इससे पता चलता है कि देश में खाने-पीने के सामान की कीमतें कितनी तेजी से बढ़ी हैं।

एनसीडीईएक्स पर कुछ प्रमुख कृषि उत्पादों का सूचकांक यानी एग्रीडेक्स ने केवल साढ़े 10 महीने के कारोबार में ही 44 प्रतिशत बढ़ गया है। एनसीडीईएक्स ने पिछले साल 26 मई को 10 लिक्विड कमोडिटीज के मूल्यों पर आधारित सूचकांक एग्रीडेक्स लांच किया था।

इन 10 एग्री कमोडिटीज में सोयाबीन, रिफाइंड सोया तेल, चना, सरसों, धनिया, जीरा, कॉटनसीड ऑयलकेक, ग्वारसीड और ग्वारगम हैं। 26 मई को 1000 हजार पॉइंट के साथ इसकी शुरुआत हुई थी, जो अब 1,442 पॉइंट पर पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें- कोरोना के सामनों पर टैक्स की दरों में कटौती पर होगी चर्चा, 28 मई को होगी मीटिंग