नूपुर टीवी पर सार्वजनिक माफी मांगें : सुप्रीम कोर्ट

161

कहा-आपकी वजह से देश का माहौल खराब हुआ

नई दिल्ली। पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ टिप्पणी करने पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को नूपुर शर्मा को कड़ी फटकार लगाते हुए टीवी पर सार्वजनिक रूप से माफी मांगने का आदेश दिया है। कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में नूपुर को एक घमंडी महिला बताते हुए कहा कि शर्तों के साथ माफी मांगना नूपुर के अहंकार को दर्शाता है।

इसे भी पढ़े – कन्हैयालाल की अंतिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब, हर तरफ उठी हत्यारों को फांसी देने की मांग

कोर्ट ने कहा कि नूपुर के बयान से पूरे देश का माहौल खराब हो गया है, इसलिए उन्हें माफी मांगनी होगी। कोर्ट ने नूपुर के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं किए जाने पर भी कड़ी नाराजगी जताई। शीर्ष अदालत ने सवाल किया कि नूपुर को खतरा है या उनके बयान से देश खतरे में पड़ गया है? सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो कुछ भी हो रहा है, हम उससे वाकिफ हैं। नूपुर ने जिसके खिलाफ टिप्पणी की उसे गिरफ्तार कर लिया गया, लेकिन नूपुर के खिलाफ अब तक कुछ नहीं हुआ है।

देश के माहौल के लिए नूपुर को जिम्मेदार ठहराया

नूपुर के वकील ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उनकी मुवक्किल की जान का खतरा है। इस पर जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि उन्हें खतरा है या वह सुरक्षा के लिए खतरा बन गई है? उन्होंने जिस तरह से पूरे देश में भावनाओं को भड़काया है, देश में जो हो रहा है उसके लिए वह अकेले जिम्मेदार है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि नूपुर शर्मा द्वारा माफी मांगने और बयान वापस लेने में बहुत देर हो गई। नूपुर ने सशर्त बयान वापस लेते हुए कहा कि अगर भावनाएं आहत हुई हैं तो माफी चाहती हैं।

पुलिस की भी खिंचाई की

सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर के वकील को इस मामले में संबंधित हाईकोर्ट के पास जाने का सुझाव दिया। साथ ही नूपुर शर्मा को उनके अहंकार के लिए फटकार लगाई और कहा कि क्योंकि वह एक पार्टी की प्रवक्ता हैं, इसलिए सत्ता उनके सिर पर चढ़ गई है। सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि नूपुर शर्मा के खिलाफ शिकायत दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस ने क्या किया? पूरे मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उसकी शिकायत पर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया, लेकिन कई एफआईआर के बावजूद उसे अभी तक दिल्ली पुलिस ने छुआ तक नहीं है।

पूरे देश से माफी मांगें नूपुर

शीर्ष अदालत ने नूपुर शर्मा से कहा कि वे उन्हें पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि हमने इस पर बहस देखी कि उसे कैसे उकसाया गया, लेकिन जिस तरह से उसने यह सब कहा और बाद में कहा कि वह एक वकील है, वह शर्मनाक है। उसे पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए।