Home Tags दसवां वेद

Tag: दसवां वेद

8940. गइ पत कबहुं न आय

धन्न गयो फिर आ मिलै, त्रिया गयी मिल जाय। भोम गयी फिर सूं मिलै, गइ पत कबहूं आय।। मनुष्य...

8939. वचन न लोपै कोय

पदमनाभ पंडित भणै, भावी चंचळ होय। सज्जन जे अंगी करै, वचन न लोपै कोय।। पंडित पदनाभ का कहना...

8938. चौडे काढो चतरसी

अकल सरीरां मांय, तिलां तेल ध्रित दूध में। पण है पड़दै मांय, चौड़े काढो चतरसी।। जिस प्रार तिलों...

8937. भाग भला दिन पाधरा

भाग भला दिन पाधरा, पैंडै पाकै बोर। घर मींडळ घोड़ा जणै, लाडू मारे चोर।। जब भाग्य अनुकूल हो अर...

8936. ज्यां घट बहुळी बुध बसै

ज्यां घट बहुळी बुध बसै, रीत-नीत परिणाम। घड़ भांजै, भांजै घडै़, सकल सुधारै काम।। जिनके अंदर रीति-नीति के...

8934. घणा सरळ बणियै नहीं

घणा सरळ बणियै नहीं, देख्या जो वणराय। सीधा-सीधा काटतां, बांका तरू बच जाय।। मनुष्य को बहुत सरल भी...

8933. करम प्रवाणे किसनिया

हिकमत करो हजार, गढपतियां जांचो घणा। धीरज मिलसी धार, करम प्रवाणे किसनिया।। कोई भले ही कितनी ही...

8932. नर क्रितघण मानै नहीं

कीघोड़ा उपगार, नर क्रितघण मानै नहीं।लानतियां ज्यां लार, रजी उड़ावौ राजिया।। जो कृतघ्न मनुष्य होते हैं, वे किसी...

8931. सब रो दाता सोय

जण-जण रो मुख जोय, जाचक भटकै जगत में। सब रो दाता सोय, उण सूं ही पूरो पडै़।। मांगने वाला...

8930. वात-वात में वाद

वात-वाद में वाद, वाद फैलाये वादियां। करता फिरै फसाद, ऐ वादीला सेखर।। जो झगडालू होते हैं, वे बात...

लोकप्रिय समाचार

चर्चित खबरे