Home Tags दसवां वेद

Tag: दसवां वेद

8958. सकल सुधारै काम

ज्यां घट बहुळी बुध बसै, रीत नीत परिणाम। घड़ भांगै, भांगै घडै़, सकल सुधारै काम।। जिनके भीतर...

8957. भावी कहियै सोय

जतन करत विणसत जको, खपियां जको न होय। उदैराज! संसार में, भावी कहियै सोय। ''जो लाख यत्न करने...

8956. चिंता को के काम

राखै जिण विधि राम, ता विधि ही रहणो भलो। चिंता को के काम, रहो मौज में रमणियां।। जिस...

8955. अबळा है क बलाय

डोरी सूं डर जाय, ना तर डरै न न्हार सूं।अबळा है क बलाय, चातर जाणै चकरिया।। डरने को तो...

8954. कामण आगै के लिया

पिरथी रा पैमाल, पल मांही कर दै परी।सिंघ हुया है स्याळ, कामण आगै केलिया।। जो पलभर में पृथ्वी...

8953. राज वियां री राह

ऊंडा उदध अपार, थाह न पावै तैरवा। राजवियां री राह, नर कुण जाणै नारणा।। जिस तरह अपार गहरे...

8952. छिटकासी नहिं बीच में

मोटै मालक रो घणो, मोटो नहचो चित्त। छिटकासी नहिं बीच में, नेह निभासी नित्त।। उस बड़े मालिक का चित्त...

8951. लालच री दौड़ लहर

लालच री दौड़े लहर, भवन वियां धन भाळ। बैठो थावर बारमो, कांधै आण कराळ।। मनुष्य में धन संपति...

8950. लहरें ऊठै लोभ री

भर दरियाव समंद, लहरां ऊठै लोभ री। मांहे ज्यां मतिमंद, मिनख घणा डूबै-मरै।। संसार रूपी समुद्र में लोभ...

8949. चौड़े काढो चतरसी

अकल सरीरां मांय, तिलां तेल घ्रित दूध में।पण है पड़दै मांय, चौड़े काढो चतरसी।। जिस तरह तिलों में...

लोकप्रिय समाचार

चर्चित खबरे